Feng Shui

बच्‍चा न बने हिंसात्‍मक, करें फेंग्‍शुई उपाय

बात-बात पर गुस्‍सा दिखाना, अपने हमउम्र बच्‍चों से मार-पीट और झगडा करना, हिंसा और अपराध से जुडे टेलीविजन कार्यक्रमों में अधिक रूचि लेना, हिंसात्‍मक बातें करना। ये सब लक्षण अगर आपके बच्‍चों में हैं तो आपको इस बाबत गंभीरता से सोचना चाहिए। चूंकि यह महज बालपन नहीं, बल्कि हिंसात्‍मक प्रवृत्ति का परिचायक हो सकता है जो किसी गंभीर मानसिक बीमारी से कम नहीं। आजकल बच्‍चों में हिंसात्‍मक मानसिकता पनप रही है, इसकी सारी जिम्‍मेदारी हम अक्‍सर टेलीविजन सीरियलों पर डाल देते हैं। लेकिन ऐसा नहीं है। फेंग्‍शुई का मानना है कि हमारी जीवनशैली और फेंग्‍शुई सिद्धांतों की उपेक्षा इसकी मुख्‍य वजह है। अगर रोजमर्रा के जीवन और बच्‍चों के आसपास के माहौल में फेंग्‍शुई नियमों का खयाल रखा जाए, तो उन्‍हें हिसांत्‍मक होने से रोका जा सकता है। आइए, जानते हैं फेंग्‍शुई के ऐसे ही कुछ उपाय- बच्‍चों के कमरे से वायरलैस उपकरण जैसे वाई-फाई, कॉर्डलेस फोन आदि दूर रखें। इस बात का खास खयाल रखें कि जब बच्‍चे शयन कर रहे हों, तो उनके कमरे में टेलिवजन, कम्‍प्‍युटर, चार्जर आदि को बंद करके तार प्‍लग से निकाल दें। देखें कहीं आपने घर में पेस्‍ट कंट्रोल में इस्‍तेामाल आने वाले जहरीले केमिकल्‍स तो नहीं रखें हैं। अगर ऐसा है तो उन्‍हें घर से तुरंत हटा दें। देखने में आता है कि ज्‍यादातर पेरेंट्स बच्‍चों के कमरे को प्‍लास्टिक खिलौनों से भर देते हैं। ऐसा करके अनजाने में आप अपने बच्‍चे में आक्रामकता बढा रहे हैं। बेहतर है कि ऐसा करने से बचें। बच्‍चों के कमरे में सिंथेटिक वॉलपेपर का प्रयोग न करें। इनके स्‍थान पर दीवारों पर साधारण डिस्‍टेम्‍पर करवाना बेहतर है। बच्‍चों का शयन कक्ष गैरेज के ठीक ऊपर या उसके साथ न बना हो। शयन के लिए मेटल अथवा वाटर बेड के स्‍थान पर लकडी का ही बेड इस्‍तेमाल करें। आजकल स्प्रिंग वाले गद्दों का चलन खूब है। लेकिन बच्‍चों के शयन के लिए स्प्रिंग के गद्दों का प्रयोग नहीं करना चाहिए। बेड दरवाजे के ठीक सामने न हो, लेकिन ऐसे स्‍थान पर अवश्‍य हो, जहां से बेड पर लेटने वाले को दरवाजा स्‍पष्‍ट दिखायी दे। बेड का सिरहाना (हेडबोर्ड) खिडकी या दरवाजे की ओर न हो। इसे […]

जीवन में संपूर्णता लाए फेंग्‍शुई मैग्‍पाई

सिर पर अपनी छत, छोटा, सुखी और स्‍वस्‍थ परिवार। यही सपना तो हम सबकी आंखों में पलता है। हममें से ऐसे कई खुशनसीब हैं, जिनका यह सपना साकार हो चुका है लेकिन बहुत सारे ऐसे भी हैं, जो जीवन में इस संपूर्णता को पाने के लिए रात-दिन जद्दोजहद कर रहे हैं। आपकी इस जइ्दोजहद को काफी हद तक मददगार साबित हो सकता है फेंग्‍शुई का यह ऑल इन वन गैजेट- मैग्‍पाई।

खूबसूरती और खूशियों का प्रतीक फेंग्‍शुई हीरन

मैंने अक्‍सर अपन लेखों में बताया है कि वास्‍तु और फेंग्‍शुई जीवन को संतुलित ढंग से जीने की विद्या हैं। वास्‍तु की ही तरह फेंग्‍शुई में भी जीवन के प्रत्‍येक पहलू पर प्रकाश डाला गया है। बताया गया है कि फेंग्‍शुई की सहायता से किस प्रकार जीवन को आरोग्‍य, सुख-समृद्धि और सौभाग्‍य से संवारा जा सकता है। संवारने की बात चली है तो क्‍यों न आज फेंग्‍शुई के एक ऐसे ही गैजेट की चर्चा की जाए, जिसका संबंध संवरने-संवारने से हो।

बुरी नजर और दुर्भाग्‍य से रखे दूर ये चीनी देवी-देवता

कहते हैं कि मुसीबत कभी बता कर नहीं आती। सच है। ऐसा भी होता है कि कभी-कभी हमें मुसीबत का कारण भी ज्ञात नहीं होता। ऐसे में मुसीबत से पार पाना और मुश्किल हो जाता है। ऐसी अज्ञात मुसीबतों के लिए हम अक्‍सर कहते हैं कि शायद किसी की बुरी नजर लग गयी है।

दीर्घायु एवं आरोग्य भी देता है लाफिंग बुद्धा

आज फिर हम फेंग्‍शुर्इ के सबसे लोकप्रिय गैजेट यानी लाफिंग बुद्धा की चर्चा करने जा रहे हैं। आप में से ज्यादातर लोगों ने लाफिंग बुद्धा को लेकर जिज्ञासाएं प्रगट की हैं। तो आइए, जानते हैं फेंग्षुर्इ के इस चमत्कारी गैजेट के बारे में कुछ अनजाने पहलू। बुद्धा के हसंते हुए चेहरे को खुषहाली का खुला द्वार समझा जाता है। संपतित के इस देवता की पूजा-आराधना नहीं की जाती। घर में इनकी स्थापना से ही घर-परिवार में धन-दौलत का आगमन निषिचत माना जाता है।

जीवन सजाए – रत्नों से सजा जैम-ट्री

खूबसूरत दिखने वाले रत्‍नों से भला किसे प्‍यार नहीं होता। रत्‍नों का प्रयोग न सिर्फ ज्‍वैलरी में बल्कि परिधानों के साथ-साथ घर व दफ्तर की साज-सजावट में भी होने लगा है। लेकिन फेंग्‍शुई कहता है कि रत्‍नों का प्रयोग सुख-समृद्धि, स्‍वास्‍थ्‍य और दीर्घायु के लिए भी किया जा सकता है। आज हम फेंग्‍शुई के ऐसे ही चमत्‍कारी गैजेट का ‘ जैम ट्री’ के बारे में जानेंगे।

फेंग्‍शुई पौधों से पाएं स्‍वास्‍थ्‍य व समृद्धि

बागवानी का शौक भला किसे नहीं होता। खासकर महानगरों में जहां हरियाली जीवन से लुप्‍त होती जा रही है, बागवानी का शौक हमें प्रकृति से जोडे रखता है। पौधे शौक के लिए लगाए जाएं, ठीक है। लेकिन अगर अपने इस शौक को पूरा करने में आप फेंग्‍शुई नियमों का भी खयाल रखें तो तो प्रकृति से निकटता के साथ-साथ स्‍वास्‍थ्‍य, स्‍मृद्धि और दीर्घायु भी पा सकते हैं। फेंग्‍शुई में प्रत्येक पौधा किसी न किसी तत्व का प्रतिनिधित्व करता है। लकड़ी वाले पौधे परिवर्तन और गतिशीलता के प्रतीक हैं,  तो सूरजमुखी और चमेली के फूलों के पौधे सुंदरता के परिचायक होते हैं। बगीचे को संतुलित बनाए रखने के लिए हमें पौधों का चयन उनकी प्रकृति और विशेषता के आधार पर करना चाहिए। पौधों से जुडा एक दिलचस्प पहलू यह है कि पौधे फेंग्‍शुई -उपचार का कार्य करते हैं यानी इनके माध्यम से हम जीवन में सकारात्मक परिवर्तन ला सकते हैं। आइए, जानते हैं कि किस प्रजाति के पौधे से हमें क्या लाभ होता है। पौधा/वृक्ष                                                           विशेषता बबूल                                                                   स्थायित्व एप्रीकोट खुबानी                                                   अपेक्षित परिणाम बिगोनिया                                                           फेंग्‍शुई की नर व मादा एनर्जी यानी यिन व यांग के बीच उचित                                                          संतुलन चैरी                                       […]

दुर्तामाओं से दूर रखे फेंग्‍शुई मुर्गा

शारीरिक रोगों के साथ-साथ मानसिक रोग भी आज जयादातर लोगों के लिए समस्‍या का सबब बनते जा रहे हैं। काम और पारिवारिक परेशानियों की वजह से तनाव लेना और उसके कारण उत्‍पन्‍न होने वाले मानसिक विकारों से फेंग्‍शुई की सहायता से कैसे बचा जाए, इस बाबत हम पूर्व के लेखेां में चर्चा कर चुके हैं। लेकिन कई बार मानसिक परेशानी ऐसी भी होती है, जिसे हम न कोई नाम दे पाते हैं और न उसके ठीक-ठीक कारण को जान पाते हैं। ऐसे ज्‍यादातर मामलों में देखने में आया है कि इस समस्‍या से जूझ रहे व्‍यक्ति या परिवार को आशंका रहता है कि उनके घर, ऑफिस या दुकान पर किसी बुरी शक्ति का का साया है, जो उनके बनते हुए कामों को बिगाड देती है या फिर काम ही नहीं बनने देती। यही नहीं, वे लोग ऐसा भी मानते हैं कि उनके परिवार में बीमारी ने जो स्‍थायी रूप से बसेरा बना लिया है, उसका कारण भी यही है। दूसरी ओर कुछ लोग इसे बुरी नजर का नाम देते हैं और वैज्ञानिक दृष्टिकोण रखने वाले लोगों की नजर में यह नकारात्‍मक ऊर्जा का प्रभाव होता है जो किसी न किसी कारणवश हमारे आसपास के माहौल में एकत्रित हो जाती है। बहरहाल, कारण चाहे जो भी हो, लेकिन अनचाही परेशानियों या अपपेक्षित बीमारियों से भला कौन नहीं बचना चाहेगा। आज हम आपको फेंग्‍शुई के ऐसे गैजेट के बारे में बताने जा रहे हैं जो इस तरह की समस्‍याओं में सुरक्षा कवच का कार्य करता है। यह अद्भुत और चमत्‍कारिक गैजेट है फेंग्‍शुई मुर्गा। मुर्गे की विशेषता है कि वह सुबह सबसे पहले जगकर बांग देता है और हम लोगों को उठकर नए दिन की शुरूआत करने को प्रेरित करता है। मुर्गे का जागना इस बात का परिचायक है कि अंधेरे का अंत हो गया है और उसके साथ ही निशाचरी शक्तियां भी क्षीण पड़ गयी हैं। यह प्रभावशाली आप अपने भवन की लॉबी या लिविंग एरिया में रख सकते हैं। और अधिक लाभकारी परिणाम पाने के लिए आप इसे किसी फेंग्‍शुई विशेषज्ञ की देख-रेख में स्‍थापित करें। इस गैजेट की घर में स्‍थापना न सिर्फ अदृष्‍य नकारात्‍मक ऊर्जा को क्षीण करती […]

फेंग्‍शुई से डेकोरेट हो ड्राइंगरूम

ड्राइंगरूम जिसे लिविंगरूम और बैठक भी कहा जाता है, घर का सबसे खास हिस्सा होता है। ड्राइंगरूम घर का एकमात्र स्थान है, जहां परिवार के सभी सदस्य एकसाथ समय बीताते हैं। यहीं पर बैठकर कभी हम मनोरंजन करते हैं, तो कभी भोजन करते हैं और कभी अपने सुख-दुख बांटते हैं और भविद्गय की योजनाओं का खाका खींचते हैं। फेंग्‍शुई कहता है कि ड्रांइगरूम रिश्तों में मीठास कायम रखने और करियर को उज्ज्वल बनाने में विद्गोद्गा भूमिका का निर्वाह करता है। आवश्यक है कि आपका ड्राइंगरूम संतुलित, शांत और ऊर्जावान हो। फेंग्‍शुई के अनुरूप अपने ड्राइंगरूम को इस प्रकार सुस्सजित करें कि पूरे घर में सकारात्मक ऊर्जा का प्रवाह बना रहे। फेंग्‍शुई कहता है कि उन्नति के सभी अवसर मुखय द्वार से आते हैं। इसलिए अपने ड्राइंगरूम का प्रवेश द्वार भवन के प्रवेश द्वार की दिशा में रखें। ड्राइंगरूम में रोशनी का पर्याप्त प्रबंध होना चाहिए, क्योंकि प्रकाश खुशियों व सौभाग्य का प्रतीक है। वहीं ड्राइंगरूम में मद्धिम रोशनी निरसता की परिचायक है। ड्राइंगरूम में सोफा, काउच, कुर्सियां कक्ष के प्रवेश द्वार की दिशा में रखनी चाहिएं। बैठने की व्यवस्था इस प्रकार होनी चाहिए कि ड्राइंगरूम में बैठे व्यक्तियों का मुख प्रवेश द्वार की तरफ हो। पेंटिंग्स, पौधों और फूलों आदी से आप अपने कक्ष को सजा सकते हैं। कमरे की पूर्वी दीवार पर परिवार के सदस्यों की फोटो लगाएं या पेड़ की बडी तस्वीर। यह घर में खुशियां लेकर आता है। उत्तर दिशा की दीवार पर पानी से भरी झील या झरने की तस्वीर लगाने से करियर में आशातीत सफलता हांसिल होती है। इसके साथ ही कक्ष को ऊर्जावान बनाने के लिए मिट्‌टी से बने शो-पीस इत्यादी भी सजावट के लिए इस्तेमाल कर सकते हैं। ड्राइंग रूम में सीधे व कांटों वाले पौधे न लगाएं। अगर आपके कमरे की दीवार की चौड़ाई अधिक है तो आप उक्त दीवार पर शीशा लगा सकते हैं। बेहतर होगा कि शीशा फेंग्‍शुई विशेषज्ञ के निर्देशन में लगाएं, क्योंकि गलत दिशा या गलत तरीके से लगाया शीशा विपरीत परिणाम दे सकता है। आपका ड्राइंगरूम अव्यवस्थित न हो। उसे खूबसूरत बनाने के लिए आप आकषर्क तस्वीरों व शो-पीस आदी इस्तेमाल कर सकते हैं। गोल पत्तों के पौधों वाले गमले भी ड्राइंगरूम में लगाकर आप उसे आकर्शक […]

प्रवेश द्वार को बनाएं खास

घर का मुखय द्वार, जिसे प्रवेश द्वार भी कहा जाता है, उसी प्रकार महत्व रखता है, जिस प्रकार शरीर में हमारा मुख। प्रवेश द्वार न सिर्फ घर के अंदरुनी द्वारों से जुड़ा होता है, यहीं से परिवार के सदस्य और मेहमान व आगंतुक प्रवेश करते हैं। हमारे रहन-सहन, हमारी जीवनशैली के बारे में आगंतुकों को बहुत कुछ अंदाजा प्रवेश द्वार से हो जाता है। प्रवेश द्वार परिवार के सदस्यों व मेहमानों का स्वागत करने वाला हो। प्रवेश द्वार से ही घर में ऊर्जा का संचार होता है। घर मे सकारात्मक ऊर्जा का प्रवाह हो या नकारात्मक ऊर्जा का यह निर्भर करता है प्रवेश द्वार की स्थिति पर। फेंग्‍शुई के नियमों का अनुपालन करके बनाया गया प्रवेश द्वार परिवार को समृद्धि, स्वास्थ्य और लंबी आयु प्रदान करता है। प्रवेश द्वार के निर्माण के समय आपको कुछ विशेष बातों को ध्यान में रखने की आवश्यकता है। प्रवेश द्वार किस दिशा में है, यह जानना अति-आवश्यक है। उदाहरण के तौर पर अगर आपके भवन का प्रवेश द्वार दक्षिण दिशा की ओर है, तो आप द्वार पर दक्षिण दिशा के फेंग्‍शुई तत्व का प्रतिनिधित्व करने वाला रंग ही करवाएं। विदित है कि फेंग्‍शुई के पांच मूल तत्व हैं- अग्नि, पृथ्वी, जल, धातु एवं लकडी। इनमें से प्रत्येक तत्व किसी न किसी दिशा विशेष से जुडा है और प्रत्येक तत्व का प्रतिनिधि रंग भी होता है। प्रेवश द्वार की लंबाई-चौडाई संतुलित होनी चाहिए। न यह बहुत लंबा हो और न छोटा। बहुत छोटा प्रवेश द्वार जहां परिवार में वैमन्सय व तनाव उत्पन्न करता है, वहीं बहुत लंबा प्रवेश द्वार आर्थिक परेशानियों का कारण बनता है। दरवाजे की चोखट किसी भी भवन के लिए विशेष महत्व रखती है। चौखट सदैव मजबूत होनी चाहिए। मजबूत चौखट परिवार के लिए सौभाग्य लाती है। ध्यान रहे कि सौंदर्य को फेंग्‍शुई में सकारात्मक ऊर्जा का वाहक माना गया है। इसलिए प्रवेश द्वार की खूबसूरती को विशेष ध्यान देने की आवश्यकता है। प्रवेश द्वार के दरवाजे पर आप लाल, नारंगी, बैंगनी या गहरा गुलाबी रंग कर सकते हैं। ये रंग अग्नि तत्व के प्रतिनिधि रंग हैं। वहीं आप हरा व भूरा रंग भी कर सकते हैं, जो कि लकड़ी तत्व के प्रतिनिधि रंग है। बताने की आवश्यकता नहीं कि लकडी अग्नि का सहयोगी तत्व है। लकडी […]