feng shui tips

बच्‍चा न बने हिंसात्‍मक, करें फेंग्‍शुई उपाय

बात-बात पर गुस्‍सा दिखाना, अपने हमउम्र बच्‍चों से मार-पीट और झगडा करना, हिंसा और अपराध से जुडे टेलीविजन कार्यक्रमों में अधिक रूचि लेना, हिंसात्‍मक बातें करना। ये सब लक्षण अगर आपके बच्‍चों में हैं तो आपको इस बाबत गंभीरता से सोचना चाहिए। चूंकि यह महज बालपन नहीं, बल्कि हिंसात्‍मक प्रवृत्ति का परिचायक हो सकता है जो किसी गंभीर मानसिक बीमारी से कम नहीं। आजकल बच्‍चों में हिंसात्‍मक मानसिकता पनप रही है, इसकी सारी जिम्‍मेदारी हम अक्‍सर टेलीविजन सीरियलों पर डाल देते हैं। लेकिन ऐसा नहीं है। फेंग्‍शुई का मानना है कि हमारी जीवनशैली और फेंग्‍शुई सिद्धांतों की उपेक्षा इसकी मुख्‍य वजह है। अगर रोजमर्रा के जीवन और बच्‍चों के आसपास के माहौल में फेंग्‍शुई नियमों का खयाल रखा जाए, तो उन्‍हें हिसांत्‍मक होने से रोका जा सकता है। आइए, जानते हैं फेंग्‍शुई के ऐसे ही कुछ उपाय- बच्‍चों के कमरे से वायरलैस उपकरण जैसे वाई-फाई, कॉर्डलेस फोन आदि दूर रखें। इस बात का खास खयाल रखें कि जब बच्‍चे शयन कर रहे हों, तो उनके कमरे में टेलिवजन, कम्‍प्‍युटर, चार्जर आदि को बंद करके तार प्‍लग से निकाल दें। देखें कहीं आपने घर में पेस्‍ट कंट्रोल में इस्‍तेामाल आने वाले जहरीले केमिकल्‍स तो नहीं रखें हैं। अगर ऐसा है तो उन्‍हें घर से तुरंत हटा दें। देखने में आता है कि ज्‍यादातर पेरेंट्स बच्‍चों के कमरे को प्‍लास्टिक खिलौनों से भर देते हैं। ऐसा करके अनजाने में आप अपने बच्‍चे में आक्रामकता बढा रहे हैं। बेहतर है कि ऐसा करने से बचें। बच्‍चों के कमरे में सिंथेटिक वॉलपेपर का प्रयोग न करें। इनके स्‍थान पर दीवारों पर साधारण डिस्‍टेम्‍पर करवाना बेहतर है। बच्‍चों का शयन कक्ष गैरेज के ठीक ऊपर या उसके साथ न बना हो। शयन के लिए मेटल अथवा वाटर बेड के स्‍थान पर लकडी का ही बेड इस्‍तेमाल करें। आजकल स्प्रिंग वाले गद्दों का चलन खूब है। लेकिन बच्‍चों के शयन के लिए स्प्रिंग के गद्दों का प्रयोग नहीं करना चाहिए। बेड दरवाजे के ठीक सामने न हो, लेकिन ऐसे स्‍थान पर अवश्‍य हो, जहां से बेड पर लेटने वाले को दरवाजा स्‍पष्‍ट दिखायी दे। बेड का सिरहाना (हेडबोर्ड) खिडकी या दरवाजे की ओर न हो। इसे […]

जीवन में संपूर्णता लाए फेंग्‍शुई मैग्‍पाई

सिर पर अपनी छत, छोटा, सुखी और स्‍वस्‍थ परिवार। यही सपना तो हम सबकी आंखों में पलता है। हममें से ऐसे कई खुशनसीब हैं, जिनका यह सपना साकार हो चुका है लेकिन बहुत सारे ऐसे भी हैं, जो जीवन में इस संपूर्णता को पाने के लिए रात-दिन जद्दोजहद कर रहे हैं। आपकी इस जइ्दोजहद को काफी हद तक मददगार साबित हो सकता है फेंग्‍शुई का यह ऑल इन वन गैजेट- मैग्‍पाई।

खूबसूरती और खूशियों का प्रतीक फेंग्‍शुई हीरन

मैंने अक्‍सर अपन लेखों में बताया है कि वास्‍तु और फेंग्‍शुई जीवन को संतुलित ढंग से जीने की विद्या हैं। वास्‍तु की ही तरह फेंग्‍शुई में भी जीवन के प्रत्‍येक पहलू पर प्रकाश डाला गया है। बताया गया है कि फेंग्‍शुई की सहायता से किस प्रकार जीवन को आरोग्‍य, सुख-समृद्धि और सौभाग्‍य से संवारा जा सकता है। संवारने की बात चली है तो क्‍यों न आज फेंग्‍शुई के एक ऐसे ही गैजेट की चर्चा की जाए, जिसका संबंध संवरने-संवारने से हो।

बुरी नजर और दुर्भाग्‍य से रखे दूर ये चीनी देवी-देवता

कहते हैं कि मुसीबत कभी बता कर नहीं आती। सच है। ऐसा भी होता है कि कभी-कभी हमें मुसीबत का कारण भी ज्ञात नहीं होता। ऐसे में मुसीबत से पार पाना और मुश्किल हो जाता है। ऐसी अज्ञात मुसीबतों के लिए हम अक्‍सर कहते हैं कि शायद किसी की बुरी नजर लग गयी है।

दीर्घायु एवं आरोग्य भी देता है लाफिंग बुद्धा

आज फिर हम फेंग्‍शुर्इ के सबसे लोकप्रिय गैजेट यानी लाफिंग बुद्धा की चर्चा करने जा रहे हैं। आप में से ज्यादातर लोगों ने लाफिंग बुद्धा को लेकर जिज्ञासाएं प्रगट की हैं। तो आइए, जानते हैं फेंग्षुर्इ के इस चमत्कारी गैजेट के बारे में कुछ अनजाने पहलू। बुद्धा के हसंते हुए चेहरे को खुषहाली का खुला द्वार समझा जाता है। संपतित के इस देवता की पूजा-आराधना नहीं की जाती। घर में इनकी स्थापना से ही घर-परिवार में धन-दौलत का आगमन निषिचत माना जाता है।

जीवन सजाए – रत्नों से सजा जैम-ट्री

खूबसूरत दिखने वाले रत्‍नों से भला किसे प्‍यार नहीं होता। रत्‍नों का प्रयोग न सिर्फ ज्‍वैलरी में बल्कि परिधानों के साथ-साथ घर व दफ्तर की साज-सजावट में भी होने लगा है। लेकिन फेंग्‍शुई कहता है कि रत्‍नों का प्रयोग सुख-समृद्धि, स्‍वास्‍थ्‍य और दीर्घायु के लिए भी किया जा सकता है। आज हम फेंग्‍शुई के ऐसे ही चमत्‍कारी गैजेट का ‘ जैम ट्री’ के बारे में जानेंगे।

फेंग्‍शुई पौधों से पाएं स्‍वास्‍थ्‍य व समृद्धि

बागवानी का शौक भला किसे नहीं होता। खासकर महानगरों में जहां हरियाली जीवन से लुप्‍त होती जा रही है, बागवानी का शौक हमें प्रकृति से जोडे रखता है। पौधे शौक के लिए लगाए जाएं, ठीक है। लेकिन अगर अपने इस शौक को पूरा करने में आप फेंग्‍शुई नियमों का भी खयाल रखें तो तो प्रकृति से निकटता के साथ-साथ स्‍वास्‍थ्‍य, स्‍मृद्धि और दीर्घायु भी पा सकते हैं। फेंग्‍शुई में प्रत्येक पौधा किसी न किसी तत्व का प्रतिनिधित्व करता है। लकड़ी वाले पौधे परिवर्तन और गतिशीलता के प्रतीक हैं,  तो सूरजमुखी और चमेली के फूलों के पौधे सुंदरता के परिचायक होते हैं। बगीचे को संतुलित बनाए रखने के लिए हमें पौधों का चयन उनकी प्रकृति और विशेषता के आधार पर करना चाहिए। पौधों से जुडा एक दिलचस्प पहलू यह है कि पौधे फेंग्‍शुई -उपचार का कार्य करते हैं यानी इनके माध्यम से हम जीवन में सकारात्मक परिवर्तन ला सकते हैं। आइए, जानते हैं कि किस प्रजाति के पौधे से हमें क्या लाभ होता है। पौधा/वृक्ष                                                           विशेषता बबूल                                                                   स्थायित्व एप्रीकोट खुबानी                                                   अपेक्षित परिणाम बिगोनिया                                                           फेंग्‍शुई की नर व मादा एनर्जी यानी यिन व यांग के बीच उचित                                                          संतुलन चैरी                                       […]

दुर्तामाओं से दूर रखे फेंग्‍शुई मुर्गा

शारीरिक रोगों के साथ-साथ मानसिक रोग भी आज जयादातर लोगों के लिए समस्‍या का सबब बनते जा रहे हैं। काम और पारिवारिक परेशानियों की वजह से तनाव लेना और उसके कारण उत्‍पन्‍न होने वाले मानसिक विकारों से फेंग्‍शुई की सहायता से कैसे बचा जाए, इस बाबत हम पूर्व के लेखेां में चर्चा कर चुके हैं। लेकिन कई बार मानसिक परेशानी ऐसी भी होती है, जिसे हम न कोई नाम दे पाते हैं और न उसके ठीक-ठीक कारण को जान पाते हैं। ऐसे ज्‍यादातर मामलों में देखने में आया है कि इस समस्‍या से जूझ रहे व्‍यक्ति या परिवार को आशंका रहता है कि उनके घर, ऑफिस या दुकान पर किसी बुरी शक्ति का का साया है, जो उनके बनते हुए कामों को बिगाड देती है या फिर काम ही नहीं बनने देती। यही नहीं, वे लोग ऐसा भी मानते हैं कि उनके परिवार में बीमारी ने जो स्‍थायी रूप से बसेरा बना लिया है, उसका कारण भी यही है। दूसरी ओर कुछ लोग इसे बुरी नजर का नाम देते हैं और वैज्ञानिक दृष्टिकोण रखने वाले लोगों की नजर में यह नकारात्‍मक ऊर्जा का प्रभाव होता है जो किसी न किसी कारणवश हमारे आसपास के माहौल में एकत्रित हो जाती है। बहरहाल, कारण चाहे जो भी हो, लेकिन अनचाही परेशानियों या अपपेक्षित बीमारियों से भला कौन नहीं बचना चाहेगा। आज हम आपको फेंग्‍शुई के ऐसे गैजेट के बारे में बताने जा रहे हैं जो इस तरह की समस्‍याओं में सुरक्षा कवच का कार्य करता है। यह अद्भुत और चमत्‍कारिक गैजेट है फेंग्‍शुई मुर्गा। मुर्गे की विशेषता है कि वह सुबह सबसे पहले जगकर बांग देता है और हम लोगों को उठकर नए दिन की शुरूआत करने को प्रेरित करता है। मुर्गे का जागना इस बात का परिचायक है कि अंधेरे का अंत हो गया है और उसके साथ ही निशाचरी शक्तियां भी क्षीण पड़ गयी हैं। यह प्रभावशाली आप अपने भवन की लॉबी या लिविंग एरिया में रख सकते हैं। और अधिक लाभकारी परिणाम पाने के लिए आप इसे किसी फेंग्‍शुई विशेषज्ञ की देख-रेख में स्‍थापित करें। इस गैजेट की घर में स्‍थापना न सिर्फ अदृष्‍य नकारात्‍मक ऊर्जा को क्षीण करती […]

बच्चों के साथ संबंधों को बनाएं मधुर

बच्चे भगवान का रूप होते हैं। परिवार बच्चों के बिना अपूर्ण होता है। बच्चे पाने और उनकी खुशी के लिए माता-पिता क्या-क्या नहीं करते। ईश्वर से दुआएं करते हैं, तीर्थयात्रा करते हैं,उनकी छोटी से छोटी खुशी के लिए बड़े से बडा त्याग करने को भी तत्पर रहते हैं। जहां बच्चे संस्कारी व माता-पिता के आज्ञाकारी हों, उस परिवार को खुशहाल परिवार माना जाता है। लेकिन ऐसे दुर्भागी परिवार भी होते हैं, जहां संतान माता-पिता के कहे में नहीं होती। ऐसी स्थिति से बचने में फेंग्‍शुई आपकी मदद कर सकता है। जरूरत है निम्न बातों पर ध्यान देने कीः-      बच्चों के साथ संबंध मधुर रखने के लिए माता-पिता को अपनी निजी शुभ दिशा की ओर मुख करके शयन करना चाहिए।      आपके भवन के मुखय द्वार के सामने नकारात्मक ऊर्जा का संचार करने वाली कोई बाधा नहीं होनी चाहिए। अगर ऐसा है तो इसका निदान फेंग्‍शुई गैजेट के माध्यम से तुरंत करना चाहिए।   पश्चिमी दिशा बच्चों से संबंधित दिशा है। यह दिशा सूक्ष्म धातु की भी होती है। पृथ्वी तत्व धातु का निर्माण करता है, जबकि अग्नि तत्व धातु को नष्ट कर देता है। पश्चिम दिशा में पृथ्वी और धातु तत्व को मजबूत बनाने का उपाय करें, जबकि इस दिशा से अग्नि तत्व व जल स्रोत को दूर रखना चाहिए। पश्चिम दिशा में धातु तत्व बढाने के लिए इस दिशा की दीवारों पर सुनहरा, सिल्वर या सफेद रंग का इस्तेमाल करें।      कई बार ऐसा भी देखने में आता है कि भवन का पश्चिमी कोना कटा हुआ होता है। ऐसी स्थिति में पश्चिमी दिशा की दीवार पर शीशा लगाना चाहिए अथवा इस दिशा में अधिक प्रकाशवान रखना चाहिए।      घर के दक्षिण-पूर्व हिस्से में गोल्डन, सिल्वर या सफेद रंग का इस्तेमाल करें।      सोते समय आपका व बच्चों का सिर शौचालय की तरफ नहीं होना चाहिए। शौचालय की तरफ सिर करके सोना दुर्भाग्य को आमंत्रित करता है। वहीं इससे बच्चों का ध्यान पढाई से हट जाता है।

फेंग्‍शुई दिलाए नाम और प्रसिद्धी

कहते हैं कि एक अच्छा दिन कुत्ते की जिंदगी में भी आता है। वहीं कुछ लोग ऐसे होते हैं, जिन्हें देखकर लगता है कि वे नाम और प्रसिद्धि पाने के लिए ही बने हैं। इसमें संशय नहीं कि हमारी व्यक्तिगत छवि हमारे करियर को ऊंचाइयों पर ले जाने और हमारे व्यवसाय को सफलता दिलाने में सहायक होती है। पर कहते हैं न कि हमारा भाग्य हमेशा हमारा साथ नहीं देता। भाग्य ने पलटी मारी नहीं कि नाम और शौहरत को धूल में मिलते देर नहीं लगती। स्केंडल, मुकदमें, आरोप और कभी अफवाह भी हमारी छवि धूल-धुसरित कर देती है। ऐसे दुर्भाग्य का सामना हमें न करना पड़े, इसके लिए निम्नलिखित फेंग्‍शुई निर्देश का पालन करें:-     अपने कुआ नंबर को जानकर उसके अनुसार अपनी निजी सर्वोत्तम दिशा जानें और उसी दिशा  की ओर मुख करके शयन करें। (कुआ नंबर के माध्यम से अपनी निजी शुभ दिशा जानने की विधि आप फेंग्‍शुई विषय के तहत दूसरे लेख में देख सकते हैं।     अगर आपका कार्य जन संपर्क से जुडा हो तो अपने घर को इस तरह व्यवस्थित करें कि उसका मुख आपकी निजी शुभ दिशा की ओर हो।      अगर आपके भवन के सामने कोई ऊंची इमारत स्थित हो या इमारत का कोना आपके प्रवेश द्वार के सामने आता हो, तो प्रवेश द्वार पर पा-कुआ लटकाएं। इससे नकारात्मक ऊर्जा का प्रभाव कम हो जाएगा।      फेंग्‍शुई के अनुसार दक्षिण दिशा नाम और प्रसिद्धि की दिशा है। इस दिशा को अग्नि तत्व की दिशा माना जाता है। अपेक्षित लाभ पाने के लिए दक्षिण दिशा की दीवार पर हल्का-चमकदार लाल रंग करवाएं।      भवन में दक्षिण दिशा में लकडी का फर्नीचर रख सकते हैं या फिर लाल रंग की कोई तस्वीर लगा सकते हैं। लेकिन इस दिशा में पानी या पानी का कोई उपकरण अथवा तस्वीर नहीं रखने चाहिएं। इस दिशा में पानी की उपस्थिति अग्नि तत्व के प्रभाव को कम कर देती है।